गूगल अनुवाद करे (विशेष नोट) :-
Skip to main content
 

पत्राचार (Letter by Dr. Apoorva Pauranik)


“वह भी क्या ज़माना था जब हम पत्र लिखा करते थे”

पत्र लिख-भेजना और पात्र-पाना व पढ़ना मुझे सदैव प्रिय रहा हैं | टेलीफोन, इन्टरनेट, वीडियों-फ़ोन के आने के बाद से चलन कम हो गया हैं | ऐसा लगता हैं कि कुछ खो गया हैं | संवाद भले ही किसी न किसी रूप में चलता रहता हैंलेकिन पारंपरिक खतो किताबत की बात ही निराली हैं |

इन्टरनेट, ई-मेल, मेसेंजर, चैट रूप, वाट्सएप, फेसबुक आदि पर त्वरित टिपण्णी होती हैं या कभी विलम्ब से भी हो सकती हैं | लघु टिप्पणियां अधिक होती हैं, हालांकि अनेक लोग, अनेक अवसरों तथा प्लेटफॉर्म्स पर लम्बी व गंभीर चर्चा भी करते हैं | लेकिन कुछ अधुरापन लगता हैं, पुराने ज़माने में चिट्ठी लिखते समय हम अपना दिल उढ़ेल देते थे, या फिर गंभीर विचार विमर्श करते थे | सोच समझ कर लिखते थे | हमारी लिखावट एक पहचान होती थी | लिफ़ाफ़े की अपनी खासियतें होती थी कि लोग मज़मून भाप लेते थे | कागज़ व स्याहीका उपयोग विशिष्ट होता था | पत्रों को सहेजना, फाइल करना, बार बार पढ़ना, हाथ फेरना, निहारना, सूंघना – कितनी क्रियाएं, कितना आनंद देती थी |

“फुल नहीं दिल” भेजा करते थे | भाई बहन के राखी व भुजरिया का आदान प्रदान होता था |

इस खंड में योजना हैं कि डॉ. अपूर्व पौराणिक के चुनिन्दा पत्रों के संपादित अंश रखे जायेंगे

1. माँ और पापा, बहने, पुत्र, पुत्री

2. पत्नी नीरजा

3. मित्र

4. अन्य

<< सम्बंधित लेख >>

Skyscrapers
मीडियावाला पर प्रेषित लेख

जनवरी 2023 से डॉ. अपूर्व पौराणिक ने ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल ‘मीडियावाला’ पर एक साप्ताहिक कॉलम लिखना शुरू किया है – …

विस्तार में पढ़िए
Skyscrapers
“भाषा बहता नीर” न्यूरोज्ञान व्याख्यान माला (तृतीय अंक)

1.0 “संस्कृत कूप जल, भाषा बहता नीर” ऐसा कहा कबीर दास जी ने । इसी उक्ति पर वर्ष 1981 में…

विस्तार में पढ़िए
Skyscrapers
“प्रकृति या परवरिश” न्यूरोज्ञान व्याख्यान माला (द्वितीय अंक)

राज कपूर की फ़िल्म “आवारा” में नायक गरीब घर से है लेकिन आदर्शवादी है । 1950 के दशक में “नया…

विस्तार में पढ़िए
Skyscrapers
विज्ञान (Science)

यहाँ पर विज्ञान से सम्बंधित विभिन्न लेखों का समावेश किया गया हैं | पढ़े, समझे एवं औरो से साझा करें…

विस्तार में पढ़िए


अतिथि लेखकों का स्वागत हैं Guest authors are welcome

न्यूरो ज्ञान वेबसाइट पर कलेवर की विविधता और सम्रद्धि को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अतिथि लेखकों का स्वागत हैं | कृपया इस वेबसाईट की प्रकृति और दायरे के अनुरूप अपने मौलिक एवं अप्रकाशित लेख लिख भेजिए, जो कि इन्टरनेट या अन्य स्त्रोतों से नक़ल न किये गए हो | अधिक जानकारी के लिये यहाँ क्लिक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 टिप्पणीयां
Inline Feedbacks
सभी टिप्पणियां देखें
0
आपकी टिपण्णी/विचार जानकर हमें ख़ुशी होगी, कृपया कमेंट जरुर करें !x
()
x
न्यूरो ज्ञान

क्या आप न्यूरो ज्ञान को मोबाइल एप के रूप में इंस्टाल करना चाहते है?

क्या आप न्यूरो ज्ञान को डेस्कटॉप एप्लीकेशन के रूप में इनस्टॉल करना चाहते हैं?