गूगल अनुवाद करे (विशेष नोट) :-
Skip to main content
 

पतंग और मांझा – पतंग को काटो पर ऊंगलियों को नहीं


पतंग दुनिया के बहुत से देशों में उडाई जाती है परन्तु लडाका पतंग (फाइटर काइट्स) केवल भारत और अपने उपमहादवीप के पडोसी देशों जैसे पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल और श्रीलंका में लोकप्रिय है। दो पतंगों के पेंच की लडाई में दूसरी पतंग की डोर को काट कर गिराने के खेल का आनन्द और रोमांच उसमें भाग लेने वाले ही महसूस कर सकते हैं | अजीब सा जुनून है। मकर संक्रांति (उत्तरायण) के अनेक दिन पहले से तैयारियाँ शुरू हो जाती हैं। खास दिन पर, आकाश रंगबिरंगी, नाचती, झूमती, डोलती, लहराती, इठलाती पतंगों से सज जाता है। सडकें सूनी हैं क्योंकि लोग छतों या मैदानों में जमा हैं।

पेंच की लडाई में कई हुनर होते हैं। पतंग का संतुलित होना। पतंगबाज का अनुभवी होना। दूसरे की डोर काटने के लिये खुद की पतंग को खूब तेजी से अपनी ओर खींचते जाना या बहुत तेजी से ठील देते जाना। और साथ में झटके या उचके देना। डोर को फुर्ती से लपेटने वाले तथा जरुरत पडने पर निर्बाध रूप से छोडते जाने वाले असिस्‍टेंट की भूमिका भी खास बन पडती है। जैसे ही एक डोर कटती है, उसे थामने वाले हाथों को मालूम पड जाता है – तनाव की जगह ढीलापन । उसकी – कटी पतंग – निस्सहाय सी जमीन की दिशा में डूबने लगती है। चेहरा उतर जाता है। जीतने वाले समूह की चीखें आकाश गूंजा देती हैं – वह काटा- वह काटा।

डोर का इतना महत्व क्यों?

इस लडाई में धागा/डोर का बहुत महत्व है। सूत का यह धागा न केवल मजबूत होना चाहिये बल्कि उसकी सतह के खुरदरे पन से दूसरे धागे को काटने की पैनी क्षमता होनी चाहिये। इस खास धागे को मांजा कहते हैं।

इसे बनाने का तरीका मेहनत भरा और खतरनाक है। एक खास किस्म की लोई तैयार करते हैं जिसमें चावल का आटा, आलू, पिसा हुआ बारीक कांच का बुरादा और रंग मिला रहता है। मजदूर इस लुग्दी को हाथों में रखकर, दो खम्बों के बीच बांधे गये सूत के सफेद धागों पर उक्त लोई की अनेक परत चढाते हैं। अहमदाबाद में उत्तरायण के कुछ सप्ताह पूर्व से सडक किनारे, फुटपाथों पर ऐसे सफेद और रंगीन धागों की अनेक पंक्तियाँ देखी जा सकती हैं। उत्तर प्रदेश व बिहार से अनेक गरीब श्रमिक इसमें जुटे रहते हैं। उनके हाथ व ऊंगलियाँ कांच लगे कंटीले, खुरदुरे मांजे को लीपते पोतते, सहेजते, लपेटते, जगह-जगह से कट जाते हैं। छिल जाते हैं, बिंध जाते हैं, लहुलुहान हो जाते हैं। वे हाथ पर पट्टियाँ बांधते हैं, धागे लपेटते हैं। उनके चेहरे से पीडा टपकती है फिर भी मजबूरीवश करे जाते हैं। पारिश्रमिक कम ही मिलता है। पूरा परिवार वहीं सडक किनारे दिन गुजारता है।

पिछले कुछ वर्षों से कुछ शहरों में पतंगबाजी के खेल में मांजा के उपयोग को बंद करने की मुहिम शुरू हुई है, परन्तु उसका असर अभी क्षीण है। यह आवाज इसलिये उठी है कि आसानी से न दिखाई पडने वाले मांजे की चपेट में अनेक सडक चलते राहगीर व आकाश में विचरते पक्षी आ जाते हैं। निःसन्देह यह अपने आप में एक पर्याप्त कारण है। परन्तु इससे भी कहीं अधिक महत्वपूर्ण है उन गरीब श्रमिकों के घावों की पीडा और व्यथा, जो लोगों को चंद घन्टों के जुनून और वहशी खुशी को पोसने के लिये अला क्‍यों सही जाना चाहिये ? दुनिया के दूसरे देशों में पतंगबाजी का आनंद एक शान्त, कलात्मक, सुन्दर हुनर के रूप में उठाया जाता है। वही क्‍यों न हो ? और फिर पेंच की लड़ाई सादे धागे से भी तो हो सकती है। उसमें ज्यादा कौशल लगेगा और अधिक देर मजा आयेगा।

<< सम्बंधित लेख >>

Skyscrapers
विज्ञान (Science)

यहाँ पर विज्ञान से सम्बंधित विभिन्न लेखों का समावेश किया गया हैं | पढ़े, समझे एवं औरो से साझा करें…

विस्तार में पढ़िए
Skyscrapers
मोहे श्याम रंग दै दे (त्वचा के रंग का विज्ञान)

कहने को तो “चमड़ी” महज “एक सतही चीज” है, लेकिन है गहन गम्भीर। उसका महत्व केवल Skin Deep नहीं है।…

विस्तार में पढ़िए
Skyscrapers
मीडियावाला पर प्रेषित लेख

जनवरी 2023 से डॉ. अपूर्व पौराणिक ने ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल ‘मीडियावाला’ पर एक साप्ताहिक कॉलम लिखना शुरू किया है – …

विस्तार में पढ़िए
Skyscrapers
Dr. Neerja Pauranik’s Visit to a meeting of La Leche League, Local BranchVictoria, BC, Canada

            I am sure most of us are aware of La Leche League International and its activities. Its vision is…

विस्तार में पढ़िए


अतिथि लेखकों का स्वागत हैं Guest authors are welcome

न्यूरो ज्ञान वेबसाइट पर कलेवर की विविधता और सम्रद्धि को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अतिथि लेखकों का स्वागत हैं | कृपया इस वेबसाईट की प्रकृति और दायरे के अनुरूप अपने मौलिक एवं अप्रकाशित लेख लिख भेजिए, जो कि इन्टरनेट या अन्य स्त्रोतों से नक़ल न किये गए हो | अधिक जानकारी के लिये यहाँ क्लिक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 टिप्पणीयां
Inline Feedbacks
सभी टिप्पणियां देखें
0
आपकी टिपण्णी/विचार जानकर हमें ख़ुशी होगी, कृपया कमेंट जरुर करें !x
()
x
न्यूरो ज्ञान

क्या आप न्यूरो ज्ञान को मोबाइल एप के रूप में इंस्टाल करना चाहते है?

क्या आप न्यूरो ज्ञान को डेस्कटॉप एप्लीकेशन के रूप में इनस्टॉल करना चाहते हैं?